Pyar Mohabbat Ishq ki raahe

आज की पंक्तियां उस pyar पर है जो pyar किसी इंसान को होता है। pyar wala ख्वाबो की दुनिया में अपनी ज़िन्दगी का एहसास करने लगता है जिससे प्यार होता है उसकी बुरी से बुरी आदत नादानियां सब एक सुनहरे पल की तरह अच्छी लगने लगती है।

इंसान पागल सा हों जाता है। वो गलियों के चक्कर लगाता है मेहबूब की एक झलक पाने के लिए, उसे देखने के लिए कुछ भी कर जाने को तैयार होता है। बस यही प्यार की कुछ नादानियां अपनी शायरी और कविता के जरिए रख रहा हूं।

बाकी pyar tune kya kiya जैसा एहसास तो सभी को होगा। उन एहसासों में इस पल को जोड़ के पढ़ लीजिएगा।शायद pyar ki kahani के खोए एहसास की भरपाई दुबारा से हो जाए।

 

Pyar Mohbbat ,Ishq
                  Pyar , Mohabbat , Ishq

 

आशिकों की आशिकी का फरमान लिखने आया हूं।

पढ़ लो एक बार Ishq ए मुलाकात करने आया हूं।

कर लोगे Ishq यूं ही

तो शब्दों का मोल क्या रह जाएगा।

लिखकर पत्र प्रेम का तुझसे

इजहार ए एहसास लिखने आया है।

कुछ पल यहां रुकिए तो

दिल ए अंजाम का कारोबार करने आया हूं।

Poetry

Pyar Mohabbat Ishq ki raahe

हा मुझे मोहब्बत है लेकिन

इजहार करने से डरता हू।

इकरार करने से डरता हू

हा मुझे बेशक मोहब्बत है

फिर भी तुझे,

Pyar करने से डरता हू।

Pyar ,Mohbbat , Ishq
                           Ishq-E-Raah

वो (Pyar) मोहब्बत थी मेरी

वो मोहब्बत थी मेरी

मैं उसका दीवाना था।

उसे देख कर दिल का,

तो बस रुक ही जाना था

हमें तो बेकद्र उस दिल पर,

वफा ही कर जाना था

तो क्या हुआ उस दिल को,

इस दिल पर वफा ना हुई

लेकिन यह दिल तो सिर्फ

उसी का दीवाना था।

रुक जाना था,मिट जाना था

और Ishq तो करके ही आना था

वह मोहब्बत थी मेरी,

मैं उसका दीवाना था

तेरे लबों की वो प्यारी हंसी,

को बस चुराना था।

तेरे लिए ही वो,

चांद तारे तोड़ लाना था,

तेरी गलियों में आकर

तेरे लिए हॉर्न बजाना था।

बिना तुझे देखे,

मेरा वहां से ना जाना था

तुम मोहब्बत थी मेरी,

इसलिए तुम्हें खुदा माना था।

सच कहूं तेरे जिस्म को नहीं,

तेरी रूह को पाना था।

तेरे इश्क में खुद को,

फानाह कर जाना था।

तुम मोहब्बत थी मेरी,

मैं सिर्फ तेरा दीवाना था।

अब तो बस हाल ऐसा है,

कि तुझे ना देखूं

तो चैन रहता है।

और तुझे देख लूं

तो बेचैन रहता हूं।

कहते हैं Ishq करना तो

खुदा को पाना है,

पर अब तो खुदा भी टूट जाता है,

इन इश्क करने वालों से।

Pyar , Mohbbat , Ishq
                         Khuda-E-Ishq

Pyar kya hai इस बात से आप सब वाकिफ है, मै बस एहसासों का थोड़े से शब्द लेकर आया था। इन शब्दों का थोड़ा सा भी मोल अगर आपको लगा हो,तो अपने जज्बातों का प्रतिलिपि (कॉमेंट) यह जरूर दे। और थोड़ा सा दूसरो तक पहुंचा दे,इससे बढ़ कर किसी भी शब्दों का कोई मोल नहीं होगा। Love,love qouets, love shayari & love story जैसे जज्बातों का एहसास करने के लिए हमारे साथ बने रहे। हम यूं ही इश्क़ की बातें ओर बहुत कुछ अपने आपके सामने लाते रहेंगे।

धन्यवाद्!

11 thoughts on “Pyar Mohabbat Ishq ki raahe”

  1. अति सुन्दर लिखा है। प्यार , मोहब्बत और इश्क़ राहें। कहते है कि प्यार करने वालो को ख्वाहिशें अधूरी रखनी चाहिए ताकि वो प्यार हमेशा बना रहे जैसे – सिर्फ ख्वाब होती तो क्या बात होती। तुम तो ख्वाहिश बन बैठी वो भी बेइंतेहा।

    Reply

Leave a Comment

%d bloggers like this: